ANM course क्या है,ANM course कैसे करें?

NURSING JOBS

ANM Course का पूर्णजानकारी

ANM (Auxiliary Nursing Midwifery) एक प्रशिक्षण कोर्स है जिसमें नर्सिंग और मिडवाइफरी (प्रसूति एवं सन्तान सेवा) की तकनीकें सिखाई जाती हैं। यह कोर्स भारत में नार्सिंग एजुकेशन का एक प्रमुख अंश है, और इसमें छात्रों को संबंधित क्षेत्रों में सबक सिखाया जाता है। ANM कोर्स के जरिए छात्राएं गर्भावस्था के दौरान देखभाल, नवजात शिशु की देखभाल, सामान्य ब्यूटी और हैजियन सेवाएं, टीकाकरण, दस्तावेजीकरण, रोग-निदान और उपचार इत्यादि के बारे में ज्ञान प्राप्त करते हैं।

ANM का पूरा नाम क्या है(full form of ANM)

ANM का पूरा नाम  Auxiliary Nursing Midwifery है और हिंदी में सहायक नर्स दाई है

ANM course क्या है

ANM (Auxiliary Nursing Midwifery) कोर्स नर्सिंग और मिडवाइफरी (प्रसूति एवं सन्तान सेवा) संबंधित तकनीकें सिखाने वाला एक प्रशिक्षण कोर्स है। यह कोर्स छात्रों को माँ-बच्चे की सेवा करने, स्वस्थ्य देखभाल प्रदान करने और समुदाय के लोगों को स्वस्थ्य जीवनशैली के बारे में जागरूक करने के लिए तैयार करता है। इस कोर्स का मुख्य उद्देश्य गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं की देखभाल, संजीवनी, वृद्धावस्था के लोगों की देखभाल, परिवार प्लानिंग, एवं जनसंख्या नियंत्रण से सम्बंधित जागरूकता को बढ़ाना है।

डिटेल्स में, ANM कोर्स के निम्नलिखित पहलुओं को शामिल किया जाता है:

  1. पाठ्यक्रम अवधि: ANM कोर्स आम तौर पर 1.5 से 2 साल की अवधि का होता है।
  2. पाठ्यक्रम का विवरण:
    • नर्सिंग एवं मिडवाइफरी के आधारभूत अवधारणाएं और नैतिकता
    • स्वस्थ विज्ञान: इंफेक्शन प्रोटेक्शन, श्वसन एवं पाचक तंत्र, दर्द के प्रबंधन, स्वास्थ्य संबंधी जागरूकता आदि
    • सामान्य और अभियांत्रिक विज्ञान: रोगों के प्रकार, उनके कारण और उपचार
    • समाजशास्त्र और मनोविज्ञान: समाज में सेवा की भूमिका, मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल, विशेष बाल संबंधी विषयों पर जागरूकता
    • नर्सिंग एवं मिडवाइफरी में रोग-निदान और उपचार: बीमारियों के लक्षण, निदान और उपचार
    • जनसंख्या शिक्षा: गर्भनिरोधक तकनीकें, परिवार नियोजन, जनसंख्या नियंत्रण से संबंधित जागरूकता
    • स्वच्छता और पोषण: स्वच्छता के महत्व, अशुद्ध भोजन और पोषण से संबंधित जागरूकता
    • चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं: प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा प्रदान करना, टीकाकरण, गर्भवती महिलाओं की देखभाल, बाल संबंधी सेवाएं आदि
  3. अभ्यास और अनुभव: ANM कोर्स में छात्रों को संबंधित क्षेत्रों में प्रैक्टिकल अभ्यास का भी मौका मिलता है, जो उन्हें वास्तविक अनुभव प्रदान करता है।

 

ANM course कैसे करें? (ANM Course details in Hindi 2023-2024)

ANM (Auxiliary Nursing Midwifery) कोर्स करने के लिए निम्नलिखित कदमों का पालन करें:

  1. पात्रता जाँच करें: ANM कोर्स करने के लिए आपको 10+2 (विज्ञान विषय सम्मिलित) कक्षा पास होना आवश्यक है। पात्रता मानदंड विभिन्न संस्थानों के आधार पर थोड़े भिन्न हो सकते हैं, इसलिए संबंधित संस्थानों के वेबसाइट पर या संस्थानों से संपर्क करके पात्रता के बारे में जानकारी प्राप्त करें।
  2. संस्थान का चयन करें: ANM कोर्स विभिन्न सरकारी और निजी नर्सिंग संस्थानों द्वारा प्रदान किया जाता है। आपको अपने इलाके में उपलब्ध संस्थानों की जाँच करनी चाहिए और उनमें से एक को चुनना होगा।
  3. एडमिशन प्रक्रिया: चयनित संस्थान में एडमिशन के लिए उनकी वेबसाइट पर या संस्थान में दी गई जानकारी के अनुसार एडमिशन प्रक्रिया पूरी करें। यह आम तौर पर लिखित परीक्षा, साक्षात्कार और मेरिट आधारित हो सकता है।
  4. कोर्स की अवधि: ANM कोर्स की अवधि आम तौर पर 1.5 से 2 साल के बीच होती है।
  5. कोर्स का पाठ्यक्रम: ANM कोर्स में छात्रों को विभिन्न विषयों पर अध्ययन कराया जाता है, जो उपर्युक्त जवाब में विस्तार से बताया गया है।
  6. प्रैक्टिकल अभ्यास: ANM कोर्स में छात्रों को वास्तविक अनुभव प्रदान करने के लिए प्रैक्टिकल अभ्यास भी कराया जाता है।
  7. समापन परीक्षा: ANM कोर्स के समापन पर, आपको समापन परीक्षा देनी होगी और अगर आप सफलतापूर्वक पास हो जाते हैं, तो आपको ANM प्रमाणपत्र प्रदान किया जाएगा।

ANM कोर्स आपको गर्भावस्था से लेकर शिशु की देखभाल, नर्सिंग तकनीकें, स्वास्थ्य संबंधी जागरूकता और समाजसेवा के क्षेत्र में तैयार करता है। इसे पूरा करके आप बाजार में संबंधित नौकरियों के लिए पात्र हो जाते हैं और समाज के लिए सेवा प्रदान कर सकते हैं।

 

ANM course का  योग्यता (Anm Course का  Qualification क्या है

  • छात्र को 10+2 (विज्ञान विषय सम्मिलित) पास होना आवश्यक होता है। कुछ स्थानों पर, गवर्नमेंट ANM स्कूलों में एडमिशन के लिए लिमिटेड सीटें उपलब्ध होती हैं और छात्रों को एंट्रेंस एग्जाम देना भी पड़ सकता है।
  • अधिकांश स्थानों पर, व्यक्तिगत नर्सिंग अथवा नर्सिंग संस्थानों में भी ANM कोर्स के लिए एडमिशन दिया जाता है। इसके लिए आपको संबंधित संस्थानों के वेबसाइट पर जानकारी ढूंढनी होगी और उनके एडमिशन प्रक्रिया को पूरा करना होगा।

ANM course कितने साल का होता है?

ANM कोर्स की अवधि आम तौर पर 1.5 से 2 साल के बीच होती है। कोर्स की अवधि विश्वविद्यालय और संस्थानों के अनुसार थोड़ी भिन्न हो सकती है।

ANM कोर्स का सिलेबस:-

ANM कोर्स में छात्रों को विभिन्न विषयों पर अध्ययन कराया जाता है, जो निम्नलिखित हो सकते हैं, लेकिन सिलेबस विश्वविद्यालय और संस्थानों के अनुसार भी बदल सकता है:

  1. नर्सिंग एवं मिडवाइफरी शिक्षा
  2. स्वस्थ विज्ञान
  3. सामान्य और अभियांत्रिक विज्ञान
  4. समाजशास्त्र और मनोविज्ञान
  5. नर्सिंग एवं मिडवाइफरी में रोग-निदान और उपचार
  6. जनसंख्या शिक्षा
  7. स्वच्छता और पोषण
  8. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं
  9. बालस्वास्थ्य
  10. संबंधों का प्रबंधन

ANM कोर्स के समापन पर, छात्रों को संबंधित क्षेत्रों में अनुभव के साथ प्रैक्टिकल अभ्यास भी कराया जाता है

 

ANM course का Fee कितना   है:-

ANM (Auxiliary Nursing Midwifery) कोर्स का फीस विभिन्न संस्थानों और विश्वविद्यालयों के अनुसार भिन्न हो सकता है। फीस लागत क्षेत्र, संस्थान के प्रकार (सरकारी या निजी), कोर्स की अवधि, और अन्य परिस्थितियों पर निर्भर करता है।

सामान्य रूप से, सरकारी संस्थानों में ANM कोर्स का फीस कम होता है, जबकि निजी संस्थानों में 1.50  लाख से  थोड़ी ज्यादा या कम होता है। आपको अपने इलाके में उपलब्ध संस्थानों की वेबसाइट या संस्थान से संपर्क करके फीस के बारे में जानकारी प्राप्त करनी चाहिए।

कुछ सरकारी संस्थानों में छात्रों को फीस की छूट भी दी जा सकती है, जो आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों से संबंधित होती है। इसलिए, फीस के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए निजी और सरकारी संस्थानों के वेबसाइट या संस्थान में संपर्क करें।

ANM course का कार्य क्या हैं:-

ANM (Auxiliary Nursing Midwifery) कोर्स के पूरा करने के बाद, एनएम नर्सेज की कार्य जिम्मेदारियां विभिन्न स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में होती हैं। इसके लिए कुछ मुख्य कार्य निम्नलिखित हैं:

  1. गर्भावस्था सेवा: एनएम नर्सेज गर्भवती महिलाओं की देखभाल करती हैं, उन्हें गर्भावस्था के दौरान जरूरी संग्रहणीय चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराती हैं, और उन्हें संतुलित आहार और पोषण से संबंधित सलाह देती हैं।
  2. प्रसूति देखभाल: ANM नर्सेज नवजात शिशु की देखभाल करती हैं, जिसमें शिशु की स्वास्थ्य देखभाल, शिशु के खिलाने और समान्य देखभाल का ध्यान रखना शामिल होता है।
  3. चाइल्ड हेल्थ केयर: ANM नर्सेज बालस्वास्थ्य की देखभाल करती हैं, जिसमें बच्चों के लिए टीकाकरण और अन्य चिकित्सा सेवाएं शामिल होती हैं।
  4. स्वच्छता और पोषण: एनएम नर्सेज स्वच्छता के महत्व को जागरूक करती हैं और उन्हें स्वच्छता एवं अशुद्ध भोजन से संबंधित सलाह प्रदान करती हैं।
  5. जनसंख्या शिक्षा: ANM नर्सेज जनसंख्या नियंत्रण और परिवार नियोजन से संबंधित जागरूकता भी प्रदान करती हैं।
  6. बीमारियों के रोग-निदान और उपचार: एनएम नर्सेज रोगों के लक्षणों का पता लगाती हैं, रोग-निदान करती हैं और उन्हें उचित उपचार देती हैं।

एनएम नर्सेज समुदाय के लोगों के स्वास्थ्य और समृद्धि के लिए समर्पित होती हैं और स्वास्थ्य सेवाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

 ANM का सैलरी क्या है

 ANM (Auxiliary Nursing Midwifery) कोर्स के पूरा करने के बाद, सैलरी का मामूला औसत वेतन विभिन्न परिस्थितियों पर निर्भर करता है। सैलरी को अनेक फैक्टर्स प्रभावित करते हैं, जैसे कि काम का स्थान, रोजगार संस्थान (सरकारी या निजी), अनुभव, जनसंख्या, और संबंधित क्षेत्र आदि।

सरकारी संस्थानों और स्वास्थ्य विभागों में ANM नर्सेज की सामान्य ओर अधिक सैलरी होती है। वे अपने अनुभव, रूबरू स्थान, और पद के आधार पर वेतन ग्रेड भी प्राप्त कर सकती हैं।

निजी संस्थानों में एनएम नर्सेज की सैलरी औसतन कम हो सकती है, लेकिन इसमें अन्य लाभ और अधिक अनुभव के माध्यम से वेतन में सुधार हो सकता है।

सामान्य रूप से, ANM कोर्स के बाद एनएम नर्सेज की सैलरी भारत में 10,000 से 25,000 रुपये प्रति माह के बीच होती है। यह आपके स्थान, संस्थान, और अनुभव के आधार पर भिन्न हो सकती है।

कृपया ध्यान दें कि ये आंकड़े विभिन्न स्तरों पर अलग-अलग हो सकते हैं और वेतन में बदलाव हो सकता है। सैलरी को समझने के लिए आपको अपने इलाके में संबंधित स्वास्थ्य संस्थानों या रोजगार संबंधित स्रोतों से जानकारी प्राप्त करना होगा।

INDIA के Top 10 ANM Colleges

GNM कोर्स क्या है कैसे करें फुल डिटेल हिंदी में

भारत में कई श्रेष्ठ ANM कॉलेज हैं जो छात्रों को उच्च-गुणवत्ता वाली शिक्षा प्रदान करते हैं। ये कॉलेज छात्रों को विशेषज्ञता और अनुभव के साथ ANM नर्सेज बनाने में मदद करते हैं। नीचे भारत के कुछ प्रमुख ANM कॉलेजों की सूची दी गई है, जिन्हें आप अपने प्राथमिकता और स्थानांतरण के आधार पर चुन सकते हैं:

  • Government College of Nursing, Delhi
  • All India Institute of Medical Sciences (AIIMS), New Delhi
  • Lady Hardinge Medical College, New Delhi
  • Armed Forces Medical College (AFMC), Pune
  • Christian Medical College (CMC), Vellore
  • King George’s Medical University (KGMU), Lucknow
  • Post Graduate Institute of Medical Education and Research (PGIMER), Chandigarh
  • St. John’s Medical College, Bangalore
  • Madras Medical College, Chennai
  • Rajkumari Amrit Kaur College of Nursing, New Delhi

 ANM के  बाद नौकरी कहा कर सकते है 

  • ANM (Auxiliary Nursing Midwifery) कोर्स के बाद, आप निम्नलिखित क्षेत्रों में रोजगार की तलाश कर सकते हैं:
    1. सरकारी नौकरी: भारतीय सरकार और राज्य सरकारों में विभिन्न स्वास्थ्य सेवा विभागों में ANM नर्सेज के पदों की नियुक्ति होती है। सरकारी संस्थानों में ANM के पदों पर काम करने के लिए आपको विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओं को पास करना होगा।
    2. निजी स्वास्थ्य सेवा: निजी अस्पतालों, नर्सिंग होम्स, मातृछाया केंद्रों और औद्योगिक संस्थानों में भी ANM नर्सेज के नौकरी के अवसर हो सकते हैं।
    3. सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र: ANM नर्सेज गांवों और छोटे शहरों में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में काम कर सकते हैं, जहां उन्हें गर्भवती महिलाओं, शिशुओं और वृद्धावस्था के लोगों की सेवा करनी पड़ सकती है।
    4. बाल स्वास्थ्य केंद्र: ANM नर्सेज बाल स्वास्थ्य केंद्रों में भी नौकरी कर सकते हैं, जहां उन्हें बच्चों की देखभाल और टीकाकरण जैसी सेवाएं प्रदान करनी पड़ सकती है।
    5. फील्ड वर्कर: कुछ स्वास्थ्य अभियांत्रिक ग्रामीण क्षेत्रों में ANM नर्सेज को फील्ड वर्कर के रूप में रखा जाता है, जिसमें वे समुदाय के लोगों के बीच जाते हैं और स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करते हैं    

ANM BEST BOOK 2023-2024

ANM (Auxiliary Nursing Midwifery) की तैयारी के लिए कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें निम्नलिखित हैं। ये पुस्तकें परीक्षा की तैयारी को सुविधाजनक बनाने में मदद करेंगी और विभिन्न विषयों के लिए ज्ञान को समझाने में मदद करेंगी।

  1. ANM (Auxiliary Nurse Midwife) Guide by B.S. Rana and Rakesh Sharma: यह पुस्तक आपको ANM परीक्षा के पूर्ण पाठ्यक्रम को समझाने और स्वास्थ्य और बाल संबंधी विषयों पर विस्तृत ज्ञान प्रदान करने में मदद करेगी।
  2. ANM Nursing Solved Papers by RPH Editorial Board: यह पुस्तक पिछले वर्षों के सॉल्व्ड पेपर्स, मॉडल पेपर्स और परीक्षा पैटर्न के साथ आती है। इससे आप परीक्षा का पैटर्न समझ सकते हैं और परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं।
  3. Textbook of Midwifery and Reproductive Health Nursing by P.C. Das: यह पुस्तक गर्भावस्था, प्रसूति और बाल स्वास्थ्य से सम्बंधित विषयों पर विस्तृत ज्ञान प्रदान करती है। ANM के सिलेबस के अनुसार यह बेहद महत्वपूर्ण है।
  4. ANM Exam Guide: ANM Entry Level Exam by Ramesh Publishing House: यह पुस्तक एएनएम परीक्षा की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण टॉपिक्स, मॉडल पेपर्स और पिछले वर्षों के पेपर्स को सम्मिलित करती है।
  5. Comprehensive Textbook of Midwifery and Gynecological Nursing by Annamma Jacob: यह पुस्तक महिला स्वास्थ्य और गर्भवती महिलाओं की देखभाल के संबंध में विस्तृत ज्ञान प्रदान करती है।

इन पुस्तकों का समय-समय पर परीक्षा की तैयारी के लिए उपयोग करें और प्रैक्टिस सेट्स, मॉडल पेपर्स और पिछले वर्षों के सॉल्व्ड पेपर्स को भी हल करें। इसके अलावा, अपने निकटतम बुकस्टोर पर और ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स पर अन्य महत्वपूर्ण पुस्तकों की भी जाँच करें जो ANM के सिलेबस को पूरा करती हों।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *